amazon

World Environment Day क्यों और किस लिए मनाया जाता है 2021

World Environment Day
World Environment Day 


दोस्तों आप का स्वागत है हमारे Achiverce Information में  तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं World Environment Day से जुड़े जानकारी के बारे में है। 

विश्व प्रर्यावरण दिवस क्यों और किस लिए मनाया जाता है? 

विश्व पर्यावरण दिवस हर साल 5 जून को दुनिया भर में मनाया जाता है। 1974 से, विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरणीय कार्रवाई के लिए सबसे उल्लेखनीय दिन है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) विश्व पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्रवाई को प्रोत्साहित करने के लिए हर साल पर्यावरण दिवस के लिए आयोजन करता है।

मानव पर्यावरण पर स्टॉकहोम सम्मेलन के पहले दिन संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा शब्द पर्यावरण दिवस की स्थापना की गई थी, जो स्टॉकहोम स्वीडन में 5-6 जून 1972 में आयोजित किया गया था। 1974 में, पहला शब्द पर्यावरण दिवस "केवल एक पृथ्वी" थीम के साथ मनाया गया था ” । तब से वर्ल्ड एनवायरनमेंट डे 5 जून को प्रतिवर्ष मनाया जाता है और पर्यावरण के प्रति जागरूकता और सुरक्षा के लिए विभिन्न गतिविधियाँ की जाती हैं। 1987 में, पर्यावरण दिवस की गतिविधियों के उत्सव के लिए एक मेजबान काउंटी का चयन करके पर्यावरण दिवस गतिविधियों के मेजबान को घुमाने का निर्णय लिया गया है।

यह भी पढ़े:-विश्व के प्रमुख भौगोलिक उपनाम से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

यह भी पढ़े:-Morya samrajya का आरंभिक दौर और उसका पतन

विश्व पर्यावरण दिवस(World Environment Day2021 मेजबानी किस देश में है? 

विश्व पर्यावरण दिवस 2021  दुनिया भर में 5 जून 2021 को मनाया जाएगा । विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की प्रतिष्ठित गतिविधियों की  मेजबानी पाकिस्तान द्वारा की जाती है। विश्व पर्यावरण दिवस 2021 का विषय 'पारिस्थितिकी तंत्र बहाली' है। पारिस्थितिकी तंत्र बहाली प्रदूषण और वनों की कटाई जैसी गतिविधियों से अपमानित पारिस्थितिकी प्रणालियों की वसूली में सहायता करने को दर्शाता है । पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली को अभी भी बरकरार पारिस्थितिकी प्रणालियों का संरक्षण करके बढ़ावा दिया जा सकता है। स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र और समृद्ध जैव विविधता अधिक उपजाऊ मिट्टी, मछली की बड़ी पैदावार और लकड़ी जैसे बड़े लाभ देती है।

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 |  विश्व पर्यावरण दिवस World Environment Day 2021 थीम और मेजबान देश, विश्व पर्यावरण दिवस 2021 का थीम, WED 2021 का मेजबान देश

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 थीम: पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम पारिस्थितिकी तंत्र बहाली है । पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली सक्रिय रूप से पेड़ लगाने या पर्यावरण की रक्षा करके और प्रदूषण के बढ़ते स्तर को कम करके पारिस्थितिकी तंत्र पर दबाव को हटाकर हो सकती है ।

विश्व पर्यावरण दिवस 2020 मेजबानी किस देश ने की थी? 

विश्व पर्यावरण दिवस 2020 विश्व  भर में 5 जून 2020 को मनाया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस 2020 प्रतिष्ठित गतिविधियों की  मेजबानी जर्मनी के साथ कोलंबिया ने की है । विश्व पर्यावरण दिवस 2020 का विषय 'टाइम फॉर नेचर' है , जो पृथ्वी पर जीवन और मानव विकास का समर्थन करने वाले आवश्यक बुनियादी ढाँचे को संदेश देने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान करने में अपनी भूमिका पर ध्यान केंद्रित करने के साथ प्रतिष्ठित स्थानों के आसपास प्रकृति का पता लगाता है।

विश्व पर्यावरण दिवस 2020 |  प्रकृति के लिए समय, विश्व पर्यावरण दिवस 2020 का थीम

प्रकृति के लिए समय | विश्व पर्यावरण दिवस 2020 थीम

विश्व पर्यावरण दिवस 2020 के विषय 'प्रकृति के लिए समय' है प्रतिष्ठित स्पॉट चारों ओर की प्रकृति का पता लगाने के।

के अनुसार आईपीसीसी, 2019: जलवायु परिवर्तन और भूमि रिपोर्ट, ग्रह पर भूमि का 75% और महासागरों के 66% गंभीर रूप से मनुष्यों द्वारा बदल दिया। एक मिलियन जानवरों और पौधों की प्रजातियों को लगभग विलुप्त होने का खतरा है, क्योंकि उनके प्राकृतिक आवास के बड़े हिस्से में नुकसान हुआ है। अब हमें प्राकृतिक दुनिया की सुरक्षा करनी चाहिए और पारिस्थितिकी तंत्र को बहाल करने में मदद करनी चाहिए ताकि वह पूरी तरह से काम कर सके। हम केवल पारिस्थितिक संतुलन प्राप्त कर सकते हैं जब मूल प्रजातियां जो विलुप्त हो चुकी हैं, बहाल हो जाती हैं। अब यह समय है कि पृथ्वी को फिर से खोलकर प्रकृति को ठीक किया जाए। प्रकृति और पारिस्थितिक तंत्र को ठीक करने के लिए वे स्वच्छ हवा, अप्रयुक्त पानी और स्वस्थ मिट्टी सहित जीवन प्रदान करने वाले कार्यों को फिर से स्थापित कर सकते हैं।

यह भी पढ़े:-विश्व के प्रमुख भौगोलिक उपनाम से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

यह भी पढ़े:-Morya samrajya का आरंभिक दौर और उसका पतन

वर्तमान में पर्यावरण विश्व राजनीतिक मुद्दा बनना। 

पर्यावरण वर्तमान युग में प्रमुख राजनीतिक मुद्दा बन गया है जिसके कारण कई तरह से जो कि इस प्रकार के है:-

विश्व में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है और खाद्य पदार्थो की मांग लगातार बढ़ रही है परन्तु ना तो कृषि भूमि में व्रद्धि हो रही है और ना ही उत्पादन बढ़ रहा है क्योंकि अत्यधिक रसायनों के प्रयोग के कारण भूमि की उपजाऊ शाक्ति कम हो रही है। 

वन क्षेत्र लगातार कम हो रहे हैं जिससे प्राकृतिक संतुलन बिगड़ रहा है और वायुमंडल में स्थित ओजोन परत में छेद हो गया है जिससे मनुष्य के लिए खतरा उत्पन्न हो गया है। 

मानव विकास रिपोर्ट के अनुसार 1 करोड़ 20 लाख लोगों को पीने का पानी उपलब्ध नही है क्योकि प्रदूषण के कारण पीने के पानी का संकट उत्पन्न हो गया है इसलिए भविष्य में जल को लेकर युद्ध होगा जिसे "जल युद्ध" कहेंगे। 

World Environment Day


पर्यावरण को बचाने के लिए चलाया गया 2 प्रमुख अभियान। 

(A) रियो सम्मेलन

पर्यावरण और विकास के मुद्दे पर U.N.O (संयुक्त राष्ट्र संगठन ) का 1992 में एक सम्मेलन ब्राजील के रियो डी जनेरियो में हुआ। इस सम्मेलन को पृथ्वी भी कहते हैं। इस सम्मेलन में 170 देशों तथा अन्य स्वयंसेवीक संगठन और बहु राष्ट्रीय निगमों ने भाग लिया। इस सम्मेलन से पर्यावरण एक प्रमुख राजनीतिक बन गया। 

रियो सम्मेलन के परिणाम

(1) रियो सम्मेलन का सबसे महत्वपूर्ण परिणाम यह निकला कि विश्व के सभी देश पर्यावरण को लेकर चिंतित हुए और उसकी सुरक्षा को लेकर जागरूक हुए। 

(2) रियो सम्मेलन में यह स्पष्ट हो गया कि पर्यावरण के संबंध में विकसित और विकासशील देशों के विचार एक दूसरे से अलग है। विकसित देश ओजोन परत और वैश्विक तापव्रद्धि को लेकर चिंतित है जबकि विकाशशील देश पर्यावरण और विकास को लेकर चिंतित है। 

(3) रियो सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता और वनो के संबंध में नियम बनाए गए। एजेंडा-21 के द्वारा विकास और पर्यावरण के लिए अनुकूल तरीके सुझाए गए । 

(4) रियो सम्मेलन में इस बात पर सहमति बनी कि हर देश को अपना विकास इस प्रकार करना चाहिए कि विकास तो हो परन्तु पर्यावरण को नुकसान न पहुंचे। 

(B) क्योटो प्रोटोकॉल समझौता

1992 के रियो सम्मेलन में पर्यावरण की सुरक्षा के लिए कुछ नियम निश्चित किए गए। इन नियमों के आधार पर 1997 में जापान के क्योटो नगर में एक समझौता किया गया जिसे क्योटो प्रोटोकॉल समझौता कहते हैं। 

क्योटो प्रोटोकॉल एक अंतर्राष्ट्रीय समझौता है इसके अंदर औधोगिक रूप से विकसित देशों के लिए ग्रीनहाउस गैसो के उत्सर्जन को कम करने के लक्ष्य निर्धारित किए गए अर्थात विकसित देश कार्बन मोनोऑक्साइड, मिथेन, हाइड्रोक्लोरो कार्बन आदि गैसो का उत्सर्जन एक निश्चित सीमा से अधिक नहीं कर सकते हैं। 

विश्व पर्यावरण दिवस गान। World Environment Day song

कवि अभय के द्वारा लिखा गया एक पृथ्वी गान विश्व पर्यावरण दिवस मनाने के लिए गाया जाता है।

हमारा ब्रह्मांडीय नखलिस्तान, ब्रह्मांडीय नीला मोती ब्रह्मांड
में सबसे सुंदर ग्रह है
सभी महाद्वीप और सभी महासागर
एकजुट हैं हम वनस्पतियों और जीवों के रूप में
एकजुट हैं हम एक पृथ्वी की प्रजातियों के रूप में खड़े हैं
विभिन्न संस्कृतियों, विश्वासों और तरीकों से
हम इंसान हैं, पृथ्वी हमारी है
सभी लोगों के घर और दुनिया के
सभी राष्ट्रों के लिए एक और एक सभी के लिए
एकजुट होकर हम नीले संगमरमर का झंडा फहराते हैं।

यह जून 2013 में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद द्वारा आयोजित एक समारोह में भारत के तत्कालीन केंद्रीय मंत्रियों कपिल सिब्बल और शशि थरूर द्वारा लॉन्च किया गया था

पर्यावरण से सम्बन्धित कुछ प्रश्न

(प्रश्न 1) विश्व प्रर्यावरण दिवस  हर वर्ष किस दिन मनाया जाता है? 

उत्तर:- 5 जून को हर दिन

(प्रश्न 2) UNEP कि स्थापना कब कि गई? 

उत्तर:- संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) कि स्थापना 5 जून 1972 में। 

(प्रश्न 3) UNEP का मुख्यालय कहा है? 

उत्तर:-इसका मुख्यालय नैरोबी , केन्या में है।

(प्रश्न 4) भारत विश्व पर्यावरण दिवस कि मेजबानी कितनी बार और कब कि है? 

उत्तर:- दो बार कर चुका है  2011,2018 में। 

2011 का थीम था (वन: प्रकृति आपकी सेवा में) 

2018 का थीम था ( बीट प्लास्टिक प्रदूषण ) 

(प्रश्न 5) 2021 कौन सा देश विश्व पर्यावरण दिवस की मेजबानी कर रहा है? 

उत्तर:-विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की प्रतिष्ठित गतिविधियों की मेजबानी पाकिस्तान द्वारा किया जा रहा है। 

थीम-पारिस्थितिकी तंत्र बहाली' है। 

(प्रश्न 6) रियो सम्मेलन का आयोजन कब हुआ था? 

उत्तर:- रियो सम्मेलन का आयोजन 1992 में एक ब्राजील के रियो डी जनेरियो में हुआ। 

(प्रश्न 7) रियो सम्मेलन में कितने देशों ने भाग लिया? 

उत्तर:- इस सम्मेलन में 170 देशों ने भाग लिया। 

आशा करता हूँ कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी लाभदायक हुआ है इसी प्रकार की जानकारी पाने के लिए आप हमारे E-mail तथा सोशल मीडिया पर follow कर सकते है। 

यह भी पढ़े:-

Bhoogol kya hai  महत्वपूर्ण भौगोलिक ज्ञान कुछ परिभाषाएं 2021

 मिट्टी के प्रकार और उनकी विशेषताएँ

मेडिकल ऑक्सीजन कैसे बनता है

भारतीय संविधान के महत्वपूर्ण अनुच्छेद।

ब्रह्माण्ड क्या है (what is Universe

भारतीय सविधान की मुख्य विशेषता। 

सम्प्रेषण का महत्व और उसके विभिन्न माॅडल, संप्रेषण प्रकिया के मूल तत्व 2021

आप कभी भी इन विचित्र सत्य की उत्पत्ति और पृथ्वी के विकास के पीछे विश्वास नहीं करेंगे 2021

वायु प्रदूषण पर निबंध


Join telegram channel click here 👇

achiverce information







Join what's aap group

achiverce information





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ