Header

U.N.O संयुक्त राष्ट्र संघ क्या है? उसके अंग और उनके कार्य

sayunkt raashtr sangh kya hai के जानकारी देने से पहले इसका पूरा नाम यानि UNO Full form United Nations Organization संयुक्त राष्ट्र संघ यह एक अंतर्राष्ट्रीय सगंठन है और आज हम इस लेख में संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रमुख अंग और उसके कार्य एवं उनकी शक्तियों तथा भारत को क्या UNO में स्थाई सदस्य मिलना चाहिए इन सभी सवालों का जवाब हमने इस लेख के माध्यम से देने का प्रयास किया है। 

UNO सयुंक्त राष्ट्र संघ की स्थापना 

UNO सयुंक्त राष्ट्र संघ की स्थापना से पहले उसके क्रमानुसार इतिहास को जानना बहुत आवश्यक है तो चलिए जानते हैं UNO के स्थापना के इतिहास के बारे में। 

प्रथम विश्व युद्ध

प्रथम विश्व युद्ध 1914 से 1918 लगभग 5 सालों तक चला इस युद्ध से काफी जानमाल की हानि हुई जिससे पूरा विश्व डर गया इसलिए विश्व के देशों ने भविष्य में इस प्रकार युद्ध फिर कभी ना हो इसके लिए उन्होंने एक संगठन का निर्माण किया जिसे 10 जनवरी 1920 को राष्ट्र संघ (league of nations) बनाया गया। 

राष्ट्र संघ का काम विश्व में शान्ति लाना था परन्तु यह इतना प्रभावशाली नहीं रहा क्योंकि यह द्वितीय विश्व युद्ध होने से नहीं रोक पाया और दो शक्तिशाली राष्ट्र अमेरिका और रूस इसके सदस्य नहीं बने थे

U.N.O संयुक्त राष्ट्र संघ क्या है? उसके अंग और उनके कार्य


द्वितीय विश्व युद्ध और सयुंक्त राष्ट्र संघ की स्थापना 

द्वितीय विश्व युद्ध 1939 से 1945 लगभग 7 सालों तक चला था और ये युद्ध प्रथम विश्व युद्ध से ज्यादा विनाशकारी रहा जिसने पूरे विश्व को हिला कर रख दिया क्योंकि इस युद्ध मे परमाणु हमले हुए थे । 

विश्व के देशों को इस बात का डर होने लगा की कही भविष्य मे तीसरा विश्वयुद्ध ना हो जाए इसलिए सभी देशों ने मिलकर एक शक्तिशाली संगठन के निर्माण करने के बारे में विचार किया और इस प्रकार राष्ट्र संघ (league of nations) को हटाकर 24 अक्टूबर 1945 UNO united Nations organization सयुंक्त राष्ट्र संघ स्थापना की गई। 

जब सयुंक्त राष्ट्र संघ की स्थापना हुआ था तब इसमें केवल 51 देश ही इसके सदस्य बने थे और भारत भी इसका प्रारम्भिक सदस्य रहा है भारत सयुंक्त राष्ट्र संघ में 30 अक्टूबर 1945 में शामिल हुआ यानि UNO की स्थापना के 6 दिन बाद 

Read more:-Maulik adhikar ke prakar मौलिक अधिकार के प्रकार 

UNO सयुंक्त राष्ट्र संघ के उद्देश्य

  1. विवादों को बातचीत से हल करना। 
  2. विश्व में युद्धों को रोकना। 
  3. विश्व में शांति स्थापित करना। 
  4. पर्यावरण की रक्षा करना। 
  5. मानवाधिकार की रक्षा करना। 
  6. समाजिक आर्थिक सहयोग तथा विकास को बढ़ावा देना। 

UNO सयुंक्त राष्ट्र संघ के प्रमुख अंग

1. महासभा

2. सुरक्षा परिषद

3. सामाजिक आर्थिक परिषद

4. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय

5. न्यास परिषद

6. सचिवालय

1. महासभा

महासभा UNO का सबसे पहला और सबसे महत्वपूर्ण अंग है। इसकी सदस्य संख्या उतनी है जितनी सयुंक्त राष्ट्र संघ की है। सयुंक्त राष्ट्र संघ की बैठक साल में एक बार जरूर बुलाई जाती है। इसकी बैठक में एक देश अपने पांच प्रतिनिधि भेजता है परन्तु वोटिंग के समय एक देश का एक ही वोट माना जाता है। 

महासभा के कार्य और शक्तियां

  1. महासभा में किसी भी मुद्दे पर वाद विवाद होता है। 
  2. महासभा में किसी भी मुद्दे पर विचार विमर्श हो सकता है। 
  3. महासभा सुरक्षा परिषद की सलाह पर महासचिव की नियुक्ति करती है। 
  4. महासभा UNO की सदस्य संख्या बढ़ा और घटा सकती है । 
  5. महासभा UNO के अन्य अंगों के चुनाव में भाग लेती है। 
  6. महासभा इस बात की निगरानी रखती है कि कोई देश अंशदान कर रहा है या नहीं। 
  7. महासभा शांति प्रस्ताव 1950 के तहत विश्व में शांति लाने के लिए पहल कर सकता है । 

2. सुरक्षा परिषद

सुरक्षा परिषद UNO का सबसे महत्वपूर्ण दूसरा अंग है इसके सदस्यों की संख्या 15 है जिसमें से 10 अस्थाई और 5 स्थाई सदस्य होते हैं। 10 अस्थायी सदस्यों को महासभा 2 वर्ष के लिए चुनती है जबकि अमेरिका, फ्रांस, चीन, रूस, ब्रिटेन इसके स्थाई सदस्य है इन पांचों सदस्यों के पास निषेधाधिकार (वीटो पाॅवर) प्राप्त है। 

निषेधाधिकार (वीटो पाॅवर) अर्थ:- सुरक्षा परिषद में किसी भी निर्णय के लिए 15 सदस्यों में से 9 सदस्यों का सहमत होना आवश्यक है। जिसमें से 5 स्थाई सदस्यों का सहमत होना आवश्यक है यदि कोई एक स्थाई सदस्य सहमत न हो और वो निषेधाधिकार का प्रयोग करता है तो कोई भी निर्णय पास नहीं हो सकता। अत: सुरक्षा परिषद 5 स्थाई सदस्यों के हाथ की कठपुतली हैं। 

सुरक्षा परिषद कार्य और शक्तियां

  1. विवाद वाले देशों के बीच बातचीत कराना। 
  2. विवाद वाले देशों के बीच मध्यस्थत करना। 
  3. विश्व में शांति और सुरक्षा बनाए रखना। 
  4. आक्रमणकारी देश के विरोध आर्थिक और सैनिक प्रतिबंध लगना। 
  5. युद्धों को रोकना और सुरक्षा परिषद महासभा को सलाह देकर महासचिव की नियुक्ति कराती है। 
  6. सुरक्षा परिषद आक्रमणकारी देशों के विरोध सैनिक कार्यवाही भी करती है। 
Read more:- भारतीय संविधान के महत्वपूर्ण अनुच्छेद। 

3. सामाजिक आर्थिक परिषद

सामाजिक आर्थिक परिषद में कुल 54 सदस्य होते हैं जिसमें से 1/3 सदस्य तीन वर्ष के बाद सेवानिवृत्त (रिटायर्ड) हो जाते हैं और नये सदस्यों का चुनाव महासभा द्वारा किया जाता है। सामाजिक आर्थिक परिषद विश्व स्तर पर सामाजिक आर्थिक विकास के लिए अनेक कार्यक्रम चलाती है। 

यह परिषद सामाजिक आर्थिक विकास से संबंधित कार्य करती है। इसलिए इसके अधीन अनेक एजेंसियां और संस्था कार्य करती है। 

सामाजिक आर्थिक परिषद एजेंसियां

  1. विश्व व्यापार संगठन 
  2. कृषि एवं खाद्य संगठन
  3. अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन
  4. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष
  5. विश्व बैंक
  6. संयुक्त राष्ट्र संघ अंतर्राष्ट्रीय बाल संकट कोष

4. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय 

अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में कुल 15 न्यायधीश होते हैं जिसमें से एक तिहाई सदस्य प्रति तीन वर्ष के पश्चात सेवानिवृत्त हो जाते हैं और नए न्याधीशो का चुनाव महासभा करती है। पंरतु इसमें केवल वही न्याधीशो नियुक्त हो ज्ञात है जो अपने देश मे सर्वोच्च न्यायालय का न्याधीश बनने की योग्यता रखता हो। 

अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय  कार्य और शक्तियां

  1. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय  सुरक्षा परिषद और महासभा को कानूनी सलाह देता है 
  2. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय  अंतर्राष्ट्रीय संधियों और कानूनों की व्याख्या करता है । 
  3. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में सुरक्षा परिषद द्वारा लाए गए विवादों की सुनवाई करता है। 
Read more:- भारतीय सविधान की मुख्य विशेषता।

5. न्यास परिषद

न्यास परिषद ऐसे देशों का प्रशासन चलाने के लिए बनाईं गई थी जो अपना प्रशासन स्वयं नहीं चला सकते थे। यह परिषद अपने अधीन दिए गए देशों को इस योग्य बनाने का प्रयास करती है कि वह अपना प्रशासन चला सके। जब ये बनी थी तब इसके अधीन 11 देश थे।

पंरतु वर्तमान में इसके अधीन कोई भी देश नहीं है इसलिए इसे समाप्त कर दिया गया है इसके अधीन आखिरी देश जो 1994 में पलाउ स्वतंत्र हो गया। 

6. सचिवालय

सचिवालय  सयुंक्त राष्ट्र संघ का एक महत्वपूर्ण प्रशासनिक अंग है। जिसका कार्य UNO के विभिन्न अंगों द्वारा लिए गए नियमों को लागू करना है। इसके सर्वोच्च अधिकारी को महासचिव कहते हैं महासचिव की नियुक्ति सुरक्षा परिषद की सलाह पर महासभा द्वारा की जाती है। 

वर्तमान महासचिवएंटोनियो गुटेरेश 

भूत पूर्व महासचिव — बान की मून

सचिवालय कार्य और शक्तियां

  1. महासचिव UNO के सभी अंगोला की बैठकों में भाग लेता है और कार्यवाही का रिकॉर्ड रखता है
  2. सुरक्षा परिषद का ध्यान ऐसे विषयों की ओर आकर्षित करता है जिससे विश्व शांति भंग हो सकती है
  3. महासचिव UNO के सभी निर्णय को लागू करवाता है

नोट:- जैसा कि आप सभी को पता है कि वर्ष 2022 में रूस और यूक्रेन का युद्ध काफ़ी डराने वाला युद्ध है क्योंकि कई देशों को डर है कि कहीं इस युद्ध से तीसरा विश्वयुद्ध न शुरू हो जाए। 

सयुंक्त राष्ट्र संघ के प्रमुख संस्था

1. संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (UNESCO

इसकी स्थापना 4 नवंबर 1945 लदंन में हुई इसकी एक साधारण सभा होती है जिसके सभी सदस्य देश इसके प्रतिनिधि होते हैं इसका कार्यालय पेरिस में है। 

UNESCO के कार्य

  1. शिक्षा विज्ञान और संस्कृति के माध्यम से राष्ट्रों के बीच परस्पर सहयोग बनाना। 
  2. प्रौढ़ शिक्षा का प्रसार करना और इसके लिए सैमिनार का आयोजन करना। 
  3. संसार के वैज्ञानिक के बीच आपस में संपर्क बढ़ना। 
  4. विज्ञान, सामाजिक विकास तथा शिक्षा के अध्ययन के लिए छात्रवृत्तियां देना। 

2. विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O) 

विश्व स्वास्थ्य संगठन इसकी स्थापना 1948 में हुई इसका उद्देश्य संसार को स्वस्थ बनाना है। इसके लिए यह मलेरिया पेदिक आदि बिमारियों की रोकथाम के लिए टीके लगवाते है तथा उनके स्वास्थ्य की जांच करता है और स्वास्थ्य को ठीक रखने के उपाय बताता है। 

3. खाघ और कृषि संगठन (F.A.O) 

खाघ और कृषि संगठन इसकी स्थापना 1945 में हुई। इसका कार्यालय इटली के रोम नगर में है। यह पिछड़े देशों में अपने विशेषज्ञ भेजता है जो उच्च और अच्छे उपकरणों के प्रयोग पर बल देता है। 

4. अंतर्राष्ट्रीय मजदूर संगठन ( I.L.O ) 

इसका कार्यालय जेनेवा में है इसका मुख्य कार्य संसार के मज़दूरों के जीवन स्तर को उठाना और उनके काम के घंटे निश्चित करना है और उनके शोषण को रोकने के लिए नियम और कानून बनाना है। 

5. विश्व बैंक (W.B) 

द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात 1944 में ब्रिटेन वुड्स संधि के द्वारा विश्व बैंक की स्थापना हुई इसका कार्यालय वाशिंगटन डी० सी० में है। यह बैंक मुख्य रूप से विकासशील देशों से संबंधित है यह बैंक विकासशील देशों को शिक्षा, स्वास्थ्य, परिवहन, बिजली आदि के विकास के लिए कर्ज देता है। 

6. सयुंक्त राष्ट्र संघ अंतर्राष्ट्रीय बाल संकट कोष ( UNICEF) 

सयुंक्त राष्ट्र संघ अंतर्राष्ट्रीय बाल संकट कोष इसकी स्थापना 11 Dec 1946 न्युयॉर्क में महासभा द्वारा किया गया है। इस संस्था का उद्देश्य संसार के बच्चों और उनकी माताओं की भलाई के लिए कार्य करना है। 

बच्चों में फैलने वाले शीघ्र रोगों को रोकने के लिए उपाय करना है तथा उनके लिए दूध और दवाइयाँ उपलब्ध कराना है। 

7. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (I.M.F) 

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष 27 Dec 1945 को स्थापना ब्रिटेन वुड्स संधि के द्वारा हुआ है इसका मुख्यालय वाशिंगटन डी सी  में है। यह एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है जो अपने सदस्यों देशों की वैश्विक आर्थिक स्थिति पर नज़र रखने का काम करती है। यह सदस्यों देशों को आर्थिक और तकनीकी सहयता प्रदान करती है। 

निष्कर्ष

उपरोक्त बातों से यह पता चलता है कि सयुंक्त राष्ट्र संघ वर्तमान समय में एक शक्तिशाली संगठन बना है क्योंकि अब तक इस ने तीसरा विश्वयुद्ध नहीं होने दिया इस से पता चलता है की सयुंक्त राष्ट्र संघ वर्तमान में काफ़ी प्रभावी संगठन बनकर उभरा है। 

प्रिय पाठक आपने इस लेख मे UNO सयुंक्त राष्ट्र संघ की स्थापना, उसके प्रमुख अंग व एजेंसियां, और उसके कार्यों बारे मे जाना 

यदि आपको किसी प्रकार से इस लेख में कोई गलती हो तो हमें अवश्य बताए या ये आपके लिए उपयोगी साबित हुआ अगर आपको किसी और विषय पर जानकारी चाहिए तो आप हमे अपनी राय comments के द्वारा अवश्य दे। इस पोस्ट आगे जरूर share करे इस तरह की जानकारी के लिए आप हमारे facebook page को follow जरूर करे। 

यहाँ भी पढ़े

इक्तादारी व्यवस्था क्या है? इक्ता प्रणाली UPSC 

मनसबदारी व्यवस्था की विशेषताएं | Mansabdari System in hindi

मानचित्र का महत्त्व और उसका इतिहास

भक्ति आंदोलन का क्या अर्थ है? भक्ति आंदोलन कि प्रमुख विशेषताएँ@2021

आज कि नई युवा पीढ़ी का देश विकास में सहयोग

प्राकृतिक वनस्पति क्या है? प्राकृतिक वनस्पति का महत्व





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ